गर्भवती महिलाओं को प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं ?

गर्भावस्था में एक औरत को अपने होने वाले बच्चे के लिए अपना ख्याल रखना जरूरी होता है ताकि दोनों सुरक्षित रहें. इसी आज की पोस्ट का विषय है गर्भवती महिलाओं को प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं ? यदि सही खाते पीते रहें तो वजन भी मेंटेन रहता है. बहुत सी महिलाओं की समस्या होती है की प्रेगनेंसी में सुबह क्या खाना चाहिए और क्यों तथा प्रेगनेंसी में क्या-क्या खाएं पियें. यदि आप किसी एक्सपर्ट से पूछते हैं तो वो यही सलाह देता है की आप ज्यादा से ज्यादा अपनी डाइट में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और गुड फैट जैसे सभी न्यूट्रिशन शामिल करने चाहिए .

pregnancy me kya khaye aur kya nahi

गर्भवती महिलाओं को प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं ?

माँ को अपने खान पान का विशेष ध्यान देना अति आवश्यक होता है क्योंकि जो भी माँ खाती है वही पोषण शिशु को मिलता है. आपके सही खान पान का सीधा असर आपके होने वाले बच्चे के विकास पर पड़ता है. यही सबसे बड़ी वजह है कि डॉक्टर सभी गर्भवती महिलाओं को पौष्टिक आहार लेने की सलाह देते हैं. आज की पोस्ट में हम कुछ ऐसे खान पान का जिक्र करेंगे जो आपके शिशु और माँ दोनों के लिए लाभदायक है.

प्रेगनेंसी में पोषक तत्व महत्वपूर्ण क्यों होते हैं

इस अवस्था में पोषक तत्त्व इसलिए जरूरी होते हैं क्योंकि इसी से माँ के शरीर को जरूरी विटामिन और मिनरल्स मिलते हैं, जिसके माध्यम से भ्रूण विकास होता है एवं होने वाले बच्चे के वजन में भी संतुलम होता है. यदि माँ पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्व लेती है तो शिशु को जन्म के पहले होने वाले सभी रोगों के होने का ख़तरा नहीं होता है. होने वाले बच्चे में कभी भी कोई कमी नहीं होती है और माँ भी बिलकुल स्वाथ्य रहती है.

प्रेगनेंसी के दौरान संतुलित पोषण क्यों लेना चाहिए

हर गर्भवती महिला को सुरुआत के लगभग 11-12 हफ़्तों तक संतुलित आहार लेना बहुत जरूरी होता है. यदि आप ऐसा करतीं हैं तो गर्भ के समय होने वाले कब्ज और जी मचलना जैसे समस्याओं से बचा जा सकता है. यदि आप पोषक तत्त्व नहीं लेती हैं तो इसका दुष्प्रभाव आपके पेट में पल रहे नन्हें शिशु पर होता है. यदि आप प्रेगनेंट हैं और आपका वजन 50-55 किलो है तो आपको रोज 65-70 ग्रामप्रोटीन की जरूरत होती है.

गर्भवती महिलाओं को प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए

गर्भवती माँ को हर डॉक्टर यही सलाह देता है की आप अपने सेहत का अच्छे से ख्याल रखें. तो आइये जानते हैं कुछ महत्वपूर्ण पॉइंट्स जो की हर माँ और बच्चे ले लिए जरूरी है.

1. अंडा खायें

जब भो प्रोटीन की बाटी आती है तो अंडा एक ऐसी चीज है जो सबसे पहले आता है जिसमे प्रोटीन के साथ साथ एमिनो एसिड भी होता है, जो माँ और बच्चे को भरपूर पोषण देता है. अंडे में इसके अलावा कई तरह के जरूरी विटामिन और मिनरल्स होते हैं जो शिशु के दिमाग को विकास देने में मदद करते हैं. अंडे को कच्चा न खाएं कभी.

2. दूध, दही और छाछ का सेवन करें

प्रेगनेंट महिलाएं हर रोज डेरी प्रोडक्ट का सेवन करें जैसे, दूध, दही और छाछ आदि. इनके सेवन करने से हड्डियां मजबूत होतीं हैं क्योंकि ये सभी केल्सियम युक्त तरल पदार्थ हैं और इनमें भी प्रोटीन होता है. एक बात का ध्यान रखें कि कोई फ्लेवर वाला दूध या छाछ न पिएं क्योंकि इनमें शुगर तेज होता है. यदि आप दही में कोई फल मिलाकर खातीं हैं तो इसका पोषण दो गुना तक बढ़ जाता है.

3. बींस खाएं

बींस को अपने खाने में यूज होने वाली सब्जी, सलाद या पास्ता पोहा में मिलाकर खाएं. बीन्स में भरपूर मात्रा में प्रोटीन, फ़्लोरिक एसिड, आयरन, कैल्शियम, जिंक आदि पोषक तत्व मौजूद होते है. आप चाहें तो राजमा और सोया भी ले सकतीं हैं.

4. हरी सब्जियां खाएं

हरी सब्जियों में सबसे ऊपर नाम पालक का आता है जिसमे सभी प्रोटीन पर्याप्त मात्रा में होते हैं, खासकर फ़्लोरिक एसिड और आयरन. वहीँ ब्रोकली यानी हरी फूलगोभी जिसमे फ़्लोरिक एसिड और कैल्शियम होता है. ये इस अवस्था में पावर देने का काम करती है. 

हरी फूलगोभी में फाइबर, विटामिन सी, एंटीऑक्‍सीडेंट और कई तरह के अन्‍य पोषक तत्‍व पर्याप्त मात्रा में होते हैं यह सभी खाद्य पदार्थों से आयरन को सोखने में भी मदद करती है. एवोकाडो जो की एक तरह का विशेष फल है जिसको आप सब्जी की तरह भी खा सकते हैं. इसमें पोटेशियम की मात्रा बहुत ज्यादा होती है. इस फल से आप विटामिन ई को प्राप्त कर सकते हैं.

5. टमाटर एवं गाजर खाएं

गाजर का सेवन यदि आप करतीं अहिं तो इससे आँखों की रोशनी सही रहती है और साथ में इसमें बीटा-कैरोटीन और विटामिन सी भरपूर होता है. इसे आपके दिल की धड़कन सही चलती है और कैंसर जैसी भयानक बीमारी में भी उपयोगी है. 

टमाटर खाने से आपके शरीर को एनर्जी मिलटी है क्योंकि इसमें यूटिन और लाइकोपिन तत्त्व होता है. टमाटर आपकी आँखों के लिए भी उपयोगी होता है.

6. सौंफ खाएं

सौंफ कहने से शरीर की गन्दगी साफ़ होती है. इसका मुख्या काम लीवर को साफ़ करना होता है. सौंफ में पोटेशियम की मात्रा ज्यादा होने के कारण शरीर का फ्लुइड लेवल संतुलित रहता है. ये शरीर के लिए बहुत अच्छी चीज है जिसमे कई तत्व पाए जाते हैं उचित मात्रा में.

7. बीज एवं मसाले खाएं

यदि आपको अपने शरीर के लिए ओमेगा-3 एसिड और ओमेगा-6 ऑयल चाहिए तो आपको अलसी के बीज, कद्दू के बीज और सूरजमुखी के बीज खाने की जरूरत है. इन सभी बीजों को आप सलाद या सब्जी में मिलाकर खा सकतीं हैं. ये हार्ट की बीमारियों को रोकने में मदद करतीं हैं एवं आपकी त्वचा की भी देखभाल करतीं हैं.

महिलाओं को प्रेगनेंसी में क्या नहीं खाना चाहिए

किसी भी गर्भवती महिला के लिए पहले तीन महीने बहुत नाजुक होते हैं. ये ऐसा समय होता है की यदि इसमें परहेज कर लिया तो क्या बात है. ऐसा इसलिए क्योंकि इन तीन महीनों में यदि आपने थोड़ी सी भी गलती कर दी तो गर्भपात हो सकता है.

\इस पोस्ट में नीचे कुछ ऐसी चीजें दी गईं है जो प्रेगनेंसी के समय बिलकुल भी नहीं खानी हैं. ये में अपने मन से नहीं लिख रहा हूँ, ये सभी ऐसी चीजें हैं जिनको खाने के लिए सभो डॉक्टर्स मना करते हैं. तो आइये जानते हैं कि ऐसी कौन सी कहने वाली चीजें हैं जिनसे परहेज करना चाहिए.

1. कच्चा मांस.

2. कच्चे या कम उबले अंडे.

3. सीफूड और मछली.

4. कच्चा दूध.

5. कच्चा पपीता.

6. मेथीदाना.

7. तिल के बीज .

8. अनानास आदि.

ये भी जरूरी है 

जिस भी महिला ने ये पोस्ट अच्छे से पढ़ी होगी अब उनको किसी से गर्भवती महिलाओं को प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं ? या फिर प्रेगनेंसी में क्या-क्या खाएं पियें पूछने की जरूरत नहीं है. कोई भी ऐसी चीज जिसके बारे में आपको पता नहीं है बिना डॉक्टर की सलाह के न खाएं और कोई भी चीज ज्यादा न खाएं. यदि आपको ये पोस्ट जानकारी वाली लगी हो तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करें और कोई प्रॉब्लम है तो कमेंट करके पूछें.

धन्यवाद,

एक टिप्पणी भेजें

कृपया गलत भाषा का इस्तिमाल न करें

और नया पुराने