महिलाओं में पेट के निचले भाग या नाभि के नीचे दर्द क्यों होता है, कारण और उपाय

क्या आप भी है पेट दर्द से परेशां तो आज की पोस्ट आपको बताएगी महिलाओं में पेट के निचले भाग या नाभि के नीचे दर्द क्यों होता है, कारण और उपाय. वैसे तो पेट का दर्द आम बात है. कभी ये हमारे गलत खानपान की वजह से होता है तो कभी किसी प्रकार के इंफेक्शन से पर महिलाओं में नाभि के नीचे पेट दर्द के कारण और उपाय जानना बेहद जरूरी है. यदि आप एक महिला हैं और आपको भी ऐसी शिकायत है तो इस पोस्ट को अंत तक पढ़ें

mahilaon mein pet ke nichale bhaag ya naabhi ke neeche dard kyon hota hai

महिलाओं में पेट के निचले भाग या नाभि के नीचे दर्द क्यों होता है कारण और उपाय

जब गर्मी का मौसम आता है तो सबसे ज्यादा पेट खराब खान पान की वजह से ही होता है. यदि आपका पेट दर्द हो रहा है तो आपका शरीर काम नहीं करता है. खान पान की वजह से किसी को कभी भी पेट में दर्द हो जाता है चाहे वह आदमी हो या औरत पर महिलाओं में पेट के निचले भाग या नाभि के नीचे दर्द आम बात नहीं होती है. 

जब किसी महिला को पीरियड आते हैं तब पेट के नीचे दर्द होता है या कोई महिला लम्बे टाइम तक बैठी रहती है तो भी ऐसा दर्द होने लगता है. पेट के नीचे वाले दर्द को डॉक्टरी भाषा में पीसीएस कहते हैं जिसका पूरा नाम है पेल्विक कंजेशन सिंड्रोम. 

इस प्रकार के दर्द का शिकार हर तीन में से एक महिला है. यदि समय रहते इसका इलाज हो जाए किसी अच्छे डॉक्टर की देख रेख में तो इस दर्द से निजाद पाया जा सकता है. पेल्विक कंजेशन सिंड्रोम महिला की जांघों योनि और वैरिकाज - वेंस से सीधा सम्बंधित होता है. इस प्रकार की बीमारी में नसें जरूरत से ज्यादा खिचाव ले लेती हैं जिसके कारण नाभि के नीचे दर्द होने लगता है. 

की समस्या को कम उम्र की लड़कियों में जायदा देखा गया है. किसी किसी को तो पेट के नीचे वाले हिस्से में इतना दर्द होता है की उसको सहन नहीं कर पाती हैं. ऐसे में ऐसी लड़की या महिला को खड़े नहीं होना चाहिए एवं लेटकर आराम करना चाहिए. 

कुछ ऐसी भी महिला हैं जनकी कम उम्र में शादी हो जाती है जिससे वो जल्दी माँ बन जाती हैं, उनको भी पेट के निचले भाग या नाभि के नीचे दर्द की शिकायत ज्यादा होती है. कम उम्र वाली मायें इस प्रकार के दर्द को नजर अंदाज करतीं रहतीं हैं जिससे बात और बिगड़ जाती है. 

महिलाओं में पेट के निचले भाग या नाभि के नीचे दर्द का कारण

हमारे शरीर की बनावट या हार्मोन्स के स्तर में कहीं कोई गड़बड़ी आ जाती है तो पेल्विक कंजेशन सिंड्रोम की समस्या उत्पन्न हो जाती है. यदि किसी महिला की उम्र 20 से लेकर 40 वर्ष है तो ऐसी महिलाओं के ये दिक्कत ज्यादा परेशान करती है. 

जब कोई महिला गर्भवती होती है तो इसके शरीर और हार्मोन्स में काफी बदलाव होने लगता है जिसकी वजह से उनमें पेट के नीचे का दर्द बढ़ जाता है. इस अवस्था में महिला के वजन में भी बृद्धि होती है जिसका सीधा प्रभाव उसके पेल्विक क्षेत्र में पढ़ता है. 

इसके कारण नसों पर काफी प्रभाव बढ़ता जिससे नसों की दीवार सामान्य रूप से कमजोर होने लगती है. जिसके कारण पेडू का दर्द भी बढ़ जाता है. पीसीएस का दर्द पेडू के हिस्से पर दोनों नितंबों के ठीक बीच में होता है.

महिलाओं में पेट के निचले भाग या नाभि के नीचे दर्द के लक्षण

=> पेशाब करने में खून का बहाव होना.

=> पेशाब करने में जलन होना.

=> पेशाब में दुर्गन्ध आना.

=> महीना आने पर ऐंठन या दर्द का होना.

=> कब्ज या दस्त की समस्या होना.

=> पेट का फूलना और पेट में गैस बनना.

=> बुखार आना. 

=> बहुत देर तक खड़े रहने या बैठने में दर्द होना. 

=> सम्भोग करते वक़्त दर्द का होना.

=> कसरत और लम्बी वाक के वक्त दर्द होना.

यदि ये सभी लक्षण आप में भी है तो समझ जाएँ कि आपको ये बीमारी लग चुकी है. लेकिन आपको डरने की कोई जरूरत नीचे इससे बचने के उपाय भी दिए गए हैं

महिलाओं में पेट के निचले भाग या नाभि के नीचे दर्द के उपाय 

=> रेशेदार और हरी सब्जियों का सेवन ज्यादा कर जिससे कब्ज और गैस आदि की शिकायत न हो क्योंकि कब्ज, गैस वगैरह से भी ये समस्या बढती है. हरी सब्जियों से ये तो ठीक है पूरे शरीर में जो भी बीमारियां वो भी दूर हो जाएंगी.

=> अधिक से अधिक साबुत दालें, भीगा हुआ अनाज, बींस, फलों का सेवन, खीरा, टमाटर आदि कच्चे चीजों का पर्याप्त आहार लें.

=> जितना हो सके उतना ज्यादा पानी पियें जिससे मूत्र के साथ शरीर के विष बाहर निकल जाते हैं, जिससे इस तरह की समस्या आपको कभी भी परेशान नहीं करेगी.

=> ग्रीन टी को दिन में कम से कम एक बार जरूर पिएं.

=> काफी, चाय और बाहरी कोलड्रिंक्स का सेवन बिलकुल बंद कर दें. ये चीजें वैसे भी कम ही पीना चाहिए.

=> नियमित रूप से कसरत करें और पैदल चलें जिससे आपके शरीर में खून का प्रवाह तेज और सही ढंग से होता है. जिसके कारण आपके पेल्विक क्षेत्र में दर्द कभी नहीं होगा.

=> यदि आपको तहरना आता है तो नियमित रूप से तहरे और रोज सिकिल चलाएं जिससे इस पर काबू पा सकते हैं.

=> जब भी आपको दर्द महसूस हो तो न तो ऐसे में सीधा बैठें और न हीं खड़े हों. ऐसे वक्त में आपको लेटकर आराम करना है. ऐसा करने से दर्द में राहत मिलती है

मेरे हिसाब से मेने आपको महिलाओं में पेट के निचले भाग या नाभि के नीचे दर्द क्यों होता है, कारण और उपाय के बारे लगभग सब बता दिया है. यदि कुछ सवाल हो या कुछ छूट गया है तो कमेंट करके पूछें. मेरे इस ब्लॉग पर केवल आपको हेल्थ और हेयर से रिलेटेड पोस्ट ही मिलेगी. इस पोस्ट को अपने ऐसे दोस्तों में शेयर करें जिनको ऐसी समस्या आ रही है.

एक टिप्पणी भेजें

कृपया गलत भाषा का इस्तिमाल न करें

और नया पुराने